कर्णी सेना ने हर्षोंल्लास से मनाई महाराणा प्रताप की ४८१ वी जयंती ।

 

राष्ट्र भक्त, अदम्य साहस, वीरता व स्वाभिमान के प्रतीक महाराणा प्रताप की जयंती हर्षोंल्लास से मनाई गई । मुंबई में अंधेरी पश्चिम स्थित डी. एन नगर में महाराणा प्रताप जयंती पर श्री राजपूत कर्णी सेना के मुंबई अध्यक्ष दिलीप राजपूत ने “पराक्रम को प्रणाम “ कार्यक्रम का आयोजन किया था। श्री राजपूत करणीसेना की मुंबई महिला अध्यक्षा व अभिनेत्री "आरती नागपाल", करणीसेना मुंबई के महासचिव दीपक सिंह चौहान समेत कई सक्रिय पदाधिकारी कार्यकर्ता ने अपनी ऊपस्थिती दर्ज कराई।

श्री राजपूत करणी सेना के मुंबई अध्यक्ष दिलीप राजपूत ने महामहाराणा प्रताप के जीवन काल व उनके शौर्य पराक्रम के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि महाराणा जी ने घास की रोटियां खाना स्वीकार किया लेकिन अक़बर के प्रस्ताव को ठुकरा दिया। दिलीप राजपूत ने महाराणा के जीवन चरित्र पर प्रकाश डाला और उनके जीवन संघर्षो से प्रेरणा लेने की बात कही । उन्होंने कहा कि धर्म एवं स्वाधीनता के लिए महाराणा प्रताप का ज्योतिर्मय बलिदान भारतीय इतिहास के पृष्ठों में लिखी अमिट गाथा हैं।



श्री राजपूत करणी सेना मुंबई की महिला अध्यक्षा "आरती नागपाल" ने महाराणा प्रताप की राष्ट्रप्रेम , शौर्य , स्वाभिमान, परोपकार, बलिदान जुझारुपन, प्रजा के प्रति प्रेम आदि पर प्रकाश डाला और मातृ दिवस (Mother's Day) संजोगवश इसी दिन होने के कारण विश्व की सभी माताओं बधाई दी। सोशल मीडिया पर भी उन्होंने एक बहुत ही प्रेरणादायक वीडियो पोस्ट करके कोविड की महामारी को हिम्मत से लडकर हराने की प्रेरणा दी साथ ही, मास्क को नियमित रूप से पहनने का आग्रह किया और अपने स्वास्थ्य का स्वयं ध्यान रखने तथा सरकार की गाइड लाइन का पालन करने का देशवासियों से निवेदन भी किया।